IND vs ENG : अगर यह संभव नहीं हुआ तो भारत के लिए हालात कठिन होंगे ?

भारत और इंग्लैंड के बीच पहला क्रिकेट टेस्ट रोमांचक चल रहा है. पहले दो दिन भारत का दबदबा रहा जबकि तीसरा दिन इंग्लैंड के नाम रहा. पहली पारी में 190 रनों की बढ़त छोड़ने के बाद इंग्लैंड दोबारा बल्लेबाजी करने उतरी और अब उसकी बढ़त 126 रनों की हो गई है. भारत के लिए इंग्लैंड की बढ़त को 200 रन से कम पर रोकना अहम हो गया है. यदि यह संभव नहीं हुआ तो भारत के लिए हालात कठिन होंगे।

अगर यह संभव नहीं हुआ तो भारत के लिए हालात कठिन होंगे ?

इस बीच तीसरे दिन भारतीय फील्डिंग की कड़ी आलोचना और मजाक उड़ाया जा रहा है. पाकिस्तान फैन्स ने भारत की फील्डिंग गलतियों का वीडियो शेयर कर ट्रोल किया है. टीम के फील्डिंग प्रदर्शन से भारतीय प्रशंसक नाराज और निराश हैं.

फील्डिंग में जहां उन्हें डबल मिलना चाहिए था वहां बाउंड्री देकर भारतीय खिलाड़ी हंसी का पात्र बन गए हैं। अनुभवी ऑफ स्पिनर आर अश्विन फील्डिंग में सबसे ज्यादा फ्लॉप रहे. दो बार उन्होंने चौका देकर इंग्लैंड को स्कोर बनाने में मदद की, जहां उन्हें डबल मिलना चाहिए था। तीसरे दिन के आखिरी सत्र में अक्षर पटेल ने इंग्लैंड के शतक के नायक ओली पोप का मुश्किल कैच छोड़ा.

वहीं कप्तान रोहित शर्मा ने भी तीसरे दिन रिव्यू लेने में बड़ी गलती दिखाई. हालांकि गेंदबाज अक्षर पटेल और विकेटकीपर केएस भरत ने अपील नहीं की, लेकिन ऑफ स्टंप से काफी बाहर गई गेंद के खिलाफ रिव्यू लेकर रोहित को शर्मिंदगी उठानी पड़ी. इतना ही नहीं, उन्होंने जसप्रित बुमराह के ओवर की समीक्षा करने की भी जहमत नहीं उठाई, जिन्हें निश्चित रूप से एक विकेट मिलना चाहिए था।

यह अंत नहीं है। भारत के स्टार ऑलराउंडर रवींद्र जड़ेजा ने दूसरी पारी में छह नो बॉल फेंकी. इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप इसे कैसे देखते हैं, तीसरे दिन भारतीय टीम की फील्डिंग और गेंदबाजी का ऐसा प्रदर्शन देखने को मिला जिसे आप भूलना चाहेंगे। इसके बाद टीम को सोशल मीडिया पर काफी आलोचना का सामना करना पड़ा.

भारतीय टीम का फील्डिंग प्रदर्शन कितना दयनीय है. रोहित शर्मा और उनकी टीम ने हाल के दिनों में इतना खराब प्रदर्शन कभी नहीं किया है. फैंस चिल्ला-चिल्लाकर कह रहे हैं कि भारतीय खिलाड़ियों ने ऐसा प्रदर्शन किया कि फील्डिंग में सबसे खराब टीम कही जाने वाली पाकिस्तान भी शर्मसार हो गई.

क्या भारतीय टीम ने की मिलीभगत? तीसरे दिन फील्डिंग और बॉलिंग के प्रदर्शन पर किसी को शक नहीं होगा. क्योंकि भारतीय टीम से इतनी खराब फील्डिंग की उम्मीद किसी को नहीं होगी. मैच में रवींद्र जड़ेजा की नो बॉल भी सवालों के घेरे में है. फैंस का कहना है कि अगर भारत इस टेस्ट में हारता है तो सबसे ज्यादा दोष फील्डिंग कोच पर पड़ेगा.

आज हैदराबाद में भारतीय टीम की फील्डिंग का प्रदर्शन शर्मनाक ही कहा जा सकता है. फील्डिंग में कुछ का प्रदर्शन तो बेहद दयनीय रहा. जब मैंने इसे देखा तो मुझे 1990 के दशक में भारतीय टीम के खराब फील्डिंग प्रदर्शन की याद आ गई. इंग्लैंड की टीम ने अगर 100 रन से ज्यादा की बढ़त हासिल की है तो भारत ने उसकी अच्छी मदद की है. फैंस ने खुलेआम कहा कि इस तरह का प्रदर्शन करने वाली टीम जीत की हकदार नहीं है.

इसको बताने के लिए आप हमारे टेलीग्राम पर आए और वहां पर अपनी राय अवश्य दें.

Leave a Comment